<p style="text-align: justify;">आजकल लोगों की सबसे बड़ी समस्या है बढ़ता हुआ वजन. हर आदमी चाहता है कि वह अपना वजन कंट्रोल में रखें. जब भी हेल्थ और चॉकलेट की बात होती है तो हम अक्सर डार्क चॉकलेट को चुनते हैं. कई रिसर्च में यह बात कही भी जा चुकी है कि डार्क चॉकलेट एंटीऑक्सीडेंट का एक बहुत बड़ा सोर्स है और हेल्थ के लिहाज से भी अच्छा होता है. लेकिन आज जो खबर हम आपको डार्क चॉकलेट को लेकर बताने जा रहे हैं शायद उसे पढ़कर आपको अच्छा न लगे. अमेरिकी ब्रांड ‘हर्शे’ हाल ही में हेडलाइन में छाया रहा. क्योंकि इसके क्वालिटी चेक में हैरान कर देने वाली बात सामने आई है. &nbsp;अमेरिकी ब्रांड हर्शे के डार्क चॉकलेट में भारी मात्रा में लीड और कैडमियम जैसे मेटल पाए गए हैं. जो इंसानों के लिहाज से बहुत ज्यादा खतरनाक है.&nbsp;</p>
<h3 style="text-align: justify;"><strong>डार्क चॉकलेट खाने के हैं बहुत फायदे</strong></h3>
<p style="text-align: justify;">अब तक के रिसर्च में यह बात सामने आई है कि नॉर्मल चॉकलेट की तुलना में डार्क चॉकलेट हेल्थ के लिए काफी अच्छा माना जाता है. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस की एक को- मैगजीन जो रिव्यूज करती है. न्यूट्रिशन रिव्यूज़ कैथरीन पी. बॉन्डोनो द्वारा 2015 के एक रिसर्च में पाया गया है कि &nbsp;डार्क चॉकलेट में फ्लेवोनोइड्स होते हैं जिसे खाने के बाद हमारा बॉडी रिलैक्स होता है और यह हमारे बीपी को भी कंट्रोल करता है.&nbsp;</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>ConsumerReports.org</strong> पॉर्टल में छपी खबर के मुताबिक विभिन्न ब्रांडों के 28 प्रकार के डार्क चॉकलेट में आर्सेनिक, कैडमियम, लेड और मरकरी का लेवल चेक किया गया. लेकिन खबर अच्छी नहीं है. जिन 28 का परीक्षण किया गया उनमें से पांच में कैडमियम और लेड दोनों के लिए लेड और कैडमियम का स्तर खपत के लिए सुरक्षित माने जाने वाले स्तर से अधिक पाया गया.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>यह कैसे हानिकारक है?</strong></p>
<p style="text-align: justify;">डार्क चॉकलेट में इन धातुओं का उच्च स्तर खपत के लिए खतरनाक साबित हुआ है. वे भ्रूण में कई प्रकार की विकास संबंधी समस्याएं पैदा कर सकते हैं, इसलिए गर्भवती महिलाओं को चेतावनी दी जाती है कि वे अपने आहार में इसका कोई अंश न लें. यह छोटे बच्चों के लिए भी सुरक्षित नहीं है क्योंकि इससे मस्तिष्क का विकास हो सकता है और आईक्यू कम हो सकता है. इकोटॉक्सीकोलॉजी एंड एनवायरनमेंटल सेफ्टी जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, कैडमियम के उच्च स्तर के आजीवन सेवन से गुर्दे की पुरानी क्षति हो सकती है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>ये भी पढ़ें: <a title="प्रेशर कुकर में चना उबालते वक्त हल्दी के साथ बेकिंग सोडा डालते हैं? आज से ही बंद कर दीजिए" href="https://www.abplive.com/lifestyle/health/why-you-must-never-mix-baking-soda-with-turmeric-2395709" target="_self">प्रेशर कुकर में चना उबालते वक्त हल्दी के साथ बेकिंग सोडा डालते हैं? आज से ही बंद कर दीजिए</a></strong></p>



Source link