Night Mantra for Better Sleep: मनुष्य का मस्तिष्क हमेशा काम करता रहता है यानी कुछ न कुछ सोचता रहता है, जोकि जरूरी भी है. लेकिन अत्यधिक सोचना या बस सोचते ही रहना मानसिक तनाव का कारण हो सकता है.

जिस तरह घोड़े का दौड़ता सामान्य है लेकिन अंधाधुन बस दौड़ते ही रहना सामान्य नहीं है. ठीक इसी तरह जब हम आराम कर रहे हों या रात में सोने की तैयारी कर रहे हों तब हमारे दिमाग को शांति की जरूरत होती है. लेकिन कई लोगों के साथ ऐसा नहीं होता है.

हर व्यक्ति यह चाहता है कि उसका जीवन तनावमुक्त रहे और इसके लिए वह कई तरह की कोशिश भी करता है. लेकिन ऐसा नहीं हो पाता और इसका प्रभाव आपके नींद पर पड़ता है. नींद पूरी न होने के कारण कई तरह की अन्य समस्याएं भी उत्पन्न होने लगती है. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर आपका दिमांग शांत क्यों नहीं रहता है. इसका कारण और समाधान क्या है. जानते हैं इसके बारे में विस्तार से.

dharma reels

क्यों अशांत रहता है दिमांग, जानें ज्योतिष कारण

तनाव मन की एक अवस्था है, जोकि आहार, विचार, व्यवहार और संस्कार पर निर्भर है. अलग-अलग स्थितियों में तनाव के कारणों में अंतर हो सकता है. जैसे किसी को आर्थिक तंगी की चिंता सताती है, तो किसी को व्यापार को लेकर तनाव रहता है तो कोई सेहत को लेकर पेरशान रहता है. ज्योतिष के अनुसार तनाव का संबंध चंद्रमा ग्रह से होता है. जब चंद्रमा कुंडली में अकेला हो तो इससे सेहत संबंधी परेशानियां उत्पन्न होती हैं और व्यक्ति का दिमाग इससे अशांत रहता है. ज्योतिष में तनाव मुक्ति के लिए मंत्रों को प्रभावशाली माना गया है. मंत्रों में नकारात्मक शक्तियों और ग्रह दोषों को दूर करने की शक्ति होती है. रात में सोने से पहले इन मंत्रों का जाप करने से तनाव, विचार, भय आदि दूर होते हैं और अच्छी नींद आती है.

  • ‘हर हर मुकुन्दे’  शत्रु बाधा से मुक्ति के लिए रात में सोने से पहले इस मंत्र का जाप करने से दिमाग शांत रहता है और मानसिक तनाव दूर होती है.
  • ‘अच्युतं केशवं विष्णुं हरिं सोमं जनार्दनम्। हसं नारायणं कृष्णं जपते दु:स्वप्रशान्तये’ इस मंत्र के जाप से मानसिक और शारीरिक पीड़ा दूर होती है. रोजाना रात में सोने से पहले इस मंत्र का जाप करके सोएं. इससे आपको सुकूनभरी नींद आएगी.
  • ‘ऊं सा ता ना मा’ अगर तनाव के कारण आपको नींद नहीं आती है या आप रात में चौंककर उठ जाते हैं तो इसके लिए सोने से पहले इस मंत्र को जरूर पढ़ें. इस मंत्र से मस्तिष्क की नसों को आराम मिलता है.
  • ‘ॐ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो न: प्रचोदयात्’ बुरे सपने के प्रभाव के कारण नींद में परेशानी की समस्या गायत्री मंत्र के जाप से दूर हो जाती है. इसलिए सोने से पहले हाथ-पैर धोकर इसका जाप करें.
  • ‘अंग संग वाहेगुरु’ सोने से पहले इस मंत्र का उच्चारण करने से डर खत्म होता है और मानसिक शांति मिलती है.
  • ‘अच्युतानन्त गोविन्द नामोच्चारणभेषजात्। नश्यन्ति सकला: रोगा: सत्यं सत्यं वदाम्यहम्।।‘ इस मंत्र के जाप से अनिद्रा की समस्या दूर होती है और रात में सुकूनभरी नींद आती है और स्वास्थ भी बेहतर रहता है.

ये भी पढ़ें: Bageshwar Dham: अमीर और धनवान बनना चाहते हैं तो अपनाएं बागेश्वर धाम के ये 10 उपाय

Disclaimer : यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.



Source link