Rajasthan Sanjivani Credit Cooperative Society Scam: केंद्रीय मंत्री गजेंद्रसिंह शेखावत की याचिका राजस्थान हाईकोर्ट में गुरुवार को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध हो गई है. मामला बहुचर्चित संजीवनी क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसायटी घोटाले से जुड़ा है. याचिका के जरिए गजेंद्र सिंह शेखावत ने एसओजी में दर्ज एफआईआर को चुनौती दी है. साथ ही मल्टी स्टेट सोसाइटी होने के कारण सभी मामले सीबीआई से जांच कराने की मांग की है. याचिका पर जस्टिस कुलदीप माथुर की बेंच सुनवाई करेगी. संजीवनी क्रेडिट कोआपरेटिव सोसायटी के 900 करोड़ रुपए गबन मामले में सीनियर अधिवक्ता को अंगेज किया गया है.

केंद्रीय मंत्री को मिलेगी राहत या बढ़ेगी मुश्किलें

केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत की ओर से सीनियर अधिवक्ता महेश जेठमलानी, अधिवक्ता धीरेंद्र सिंह दासपा पक्ष रखेंगे. राज्य सरकार की ओर से सीनियर अधिवक्ता सिद्धार्थ लूथरा, सीनियर अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी, एएजी अधिवक्ता अनिल जोशी पैरवी करेंगे. संजीवनी क्रेडिट कोआपरेटिव सोसायटी के खिलाफ निवेशकों की शिकायत पर एसओजी ने बाड़मेर, जालौर, जोधपुर सहित अन्य जिलों में एफआईआर दर्ज की जा रही है.

अभी तक मामले में 200 से ज्यादा एफआईआर दर्ज हो चुकी है. संजीवनी क्रेडिट कोआपरेटिव सोसायटी घोटाले से जुडे मामले राजस्थान और गुजरात दोनों राज्यों में दर्ज किए गए हैं. गुजरात के सभी मामले पहले ही केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) को भेज दिए गए हैं.

याचिका पर राजस्थान हाईकोर्ट करेगा सुनवाई

अब राजस्थान के मामले भी सीबीआई को रेफर करने की याचिका दायर की गई है. संजीवनी क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसायटी का कथित घोटाला 900 करोड़ रुपए से भी ज्यादा का बताया जा रहा है. हजारों निवेशकों की जीवन भर की कमाई फंसी हुई है. सीएम अशोक गहलोत ने  केंद्रीय मंत्री शेखावत पर घोटाले का आरोप लगाया है. केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत की ओर से सीएम अशोक गहलोत के खिलाफ दिल्ली में मानहानि का मुकदमा दर्ज किया गया है. सीएम अशोक गहलोत पहले ही कह चुके हैं कि मामले में जेल जाने से भी पीछे नहीं हटेंगे. लेकिन गरीबों की जीवन भर की कमाई दिलाने के लिए प्रयास जारी रहेगा. 

Jodhpur: भैंस चोरी का आरोपी नहीं बनाने के एवज में ASI मांग रहा था रिश्वत, ACB ने किया रंगे हाथों ट्रैप



Source link