Punjab News: चंडीगढ़ एयरपोर्ट को अब पंजाब की विरासत से जोड़ने की कवायद शुरू हो गई है. पहले पंजाब सरकार ने चंडीगढ़ एयरपोर्ट का नाम बदलकर शहीद भगत सिंह इंटरनेशनल एयरपोर्ट रखा था. अब एयरपोर्ट पर आने-जाने के दौरान लोग शहीद-ए-आजम भगत सिंह के जीवन के बारे में जान सकेंगे. सरकार यहां पर निशान-ए-इंकलाब प्लाजा बनाने जा रही है. वहीं राज्यपाल के निर्देश के बाद पीडब्ल्यूडी ने की तरफ से शहीद-ए-आजम भगत सिंह बुत लगाने की तैयारी की जा रही है. 

6.52 करोड़ रुपये होंगे खर्च

28 सितंबर, 2022 को चंडीगढ़ एयरपोर्ट का नाम बदलकर शहीद भगत सिंह एयरपोर्ट रखा गया था. इसी नए नाम की सालगिरह से पहले अब पंजाब सरकार ने शहीद-ए-आजम भगत सिंह के जीवन के बारे में युवाओं को जानकारी देने की योजना बनाई है. अब यहां 6.52 करोड़ रुपये खर्च निशान-ए-इंकलाब प्लाजा बनाया जाएगा. इंटरनेशनल एयरपोर्ट को पंजाब की विरासत से जुड़ा हुआ दिखाने के लिए राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने भी रुचि दिखाई है. जिसके लिए उनकी तरफ से ही निशान-ए-इंकलाब प्लाजा बनाने के लिए विभाग को कहा गया है. यहीं नहीं पीडब्ल्यूडी को राज्यपाल की तरफ से निर्देश दिए गए है कि वहां पर भगत सिंह का बुत भी लगाया जाए. 

6 महीने में पूरा करना होगा काम

मीडिया रिपोर्टस की माने तो निशान-ए-इंकलाब प्लाजा बनाने के लिए और शहीद-ए-आजम भगत सिंह बुत लगाने के लिए जल्द ही विभाग द्वारा टेंडर जारी किया जाएगा. टेंडर जारी होने के 6 महीने के अंदर ही ठेकेदार को पूरा काम करके देना होगा. 

निशान-ए-इंकलाब प्लाजा बनने के बाद एयरपोर्ट पर भगत सिंह की जीवनगाथा झलकेगी. यहां से आने-जाने के दौरान शहीद-ए-आजम भगत सिंह के जीवन के बारे में जान सकेंगे. वहां ये भी दिखाया जाएगा कि कैसे भगत सिंह ने हंसते-हंसते फांसी के फंदे को चूमकर गले लगा लिया था. इससे पहले भी इस इंटरनेशनल एयरपोर्ट को बेहतर लुक देने के लिए सरकार ने बहुत पैसा खर्च किया है. 

यह भी पढ़ें: Haryana Transfer: अब कॉलेज प्रिंसिपल, प्रोफेसर और सहायक प्रोफेसर के ऑनलाइन होंगे तबादले, जानिए कब से शुरू होगा प्रोसेस



Source link