Mahakal Lok: नेपाल (Nepal) राष्ट्र के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ (Pushpa Kamal Dahal Prachand) 2 जून को उज्जैन (Ujjain) स्थित ज्योतिर्लिंग महाकालेश्वर (Mahakaleshwar Mandir) मंदिर के दर्शन करेंगे. इस वजह से मंदिर दर्शन की व्यवस्थाओं में बदलाव कर दिया गया है. आम श्रद्धालुओं को 2 जून को दोपहर 12 बजे तक दर्शन की अनुमति नहीं होगी यानी उन्हें महाकाल लोक (Mahakal Lok) में एंट्री नहीं मिलेगी. 

महाकालेश्वर मंदिर समिति के प्रशासक संदीप सोनी ने बताया कि 2 जून को नेपाल के प्रधानमंत्री भगवान महाकाल का आशीर्वाद लेने के लिए उज्जैन आ रहे हैं. इसी को  देखते हुए दर्शन व्यवस्था में बदलाव किया गया है. महाकाल लोक को भी श्रद्धालुओं के लिए दोपहर 12 बजे से खोला जाएगा. यह संपूर्ण व्यवस्था केवल 1 दिन के लिए ही रहेगी. उन्होंने बताया कि सामान्य दर्शन व्यवस्था सुबह भस्मारती से रात्रि कालीन शयन आरती तक चालू रहेगी. महाकालेश्वर मंदिर में भी वीआईपी के आगमन को लेकर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. महाकालेश्वर मंदिर समिति के कर्मचारियों के नाम और नंबर पुलिस विभाग के आला अधिकारियों को शेयर कर दिया है. पुलिस अधिकारी आवश्यक चेकिंग के बाद ही सुरक्षाकर्मियों को मंदिर परिसर में प्रवेश देंगे.

दूसरी बार “महाकाल लोक” में आमजन की एंट्री बंद
महाकालेश्वर मंदिर विस्तारीकरण योजना के तहत बनाए गए महाकाल लोक को लेकर शिव भक्तों में काफी आकर्षण रहता है. 11 अक्टूबर 2022 को महाकाल लोक के उद्घाटन के बाद से दो बार आम श्रद्धालुओं के लिए इसे बंद किया गया है. 3 दिन पहले तेज आंधी आने के बाद महाकाल लोक को बंद कर दिया गया था. इसके बाद नेपाल के राष्ट्रपति के आगमन को लेकर महाकाल लोक को बंद रखे जाने का फैसला किया गया है.

इस तरह दर्शन कर पाएंगे श्रद्धालु
महाकालेश्वर मंदिर समिति के प्रशासक संदीप सोनी के मुताबिक सामान्य दर्शन के लिए हरसिद्धि चौराहे से बड़ा गणपति मंदिर होकर चार नंबर गेट से विश्राम धाम सभा मंडप होते हुए अंदर प्रवेश दिया जाएगा. दर्शन के बाद श्रद्धालु इसी रास्ते से वापस पांच नंबर गेट पर पहुंचेंगे. इस दौरान गर्भ गृह दर्शन और शीघ्र दर्शन व्यवस्था बंद रहेगी. यह व्यवस्था दोपहर 12 बजे तक लागू रहेगी. 

ये भी पढ़ें-

MP Elections 2023: मंत्री भूपेंद्र सिंह के समर्थक ने की कांग्रेस नेता से मुलाकात, बीजेपी खेमे में मची खलबली



Source link