Himachal Disaster: हिमाचल प्रदेश में हो रही बारिश जमकर तबाही मचाती हुई नजर आ रही है. प्रदेश भर के लोगों का आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो चुका है. मौसम विज्ञान केंद्र की ओर से जारी रेड अलर्ट के बीच रात भर भारी बारिश का दौर जारी रहा. अब भी शिमला समेत अन्य जिलों में बारिश हो रही है. भारी बारिश की वजह से भूस्खलन और फ्लैश फ्लड जैसी कई घटनाएं पेश आ रही हैं. कई रिहायशी मकान पर पेड़ गिरने की वजह से भारी नुकसान हुआ है.

प्रदेश भर में 530 सड़कें बंद

हिमाचल प्रदेश में हो रही भारी बारिश के चलते तीन राष्ट्रीय उच्च मार्ग समेत 530 सड़क बंद पड़ी हुई हैं. हिमाचल प्रदेश में नेशनल हाईवे 21, नेशनल हाईवे 503 और नेशनल हाईवे 154 बंद हो गया है. इसके अलावा बिलासपुर में 50, चंबा में दो, हमीरपुर में 33, कांगड़ा में 7, किन्नौर में दो, कुल्लू में 24, मंडी में 213, शिमला में 58, सिरमौर में तीन, सोलन में 134 और ऊना में चार सड़के बंद पड़ी हुई हैं. इसके अलावा 2 हजार 897 जगह पर बिजली और 214 पेयजल परियोजनाएं प्रभावित हुई हैं.

₹8099.97 करोड़ का नुकसान

हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश की वजह से बिजली सेवा भी बाधित हुई है. हमीरपुर में 376, कांगड़ा में एक, किन्नौर में आठ, कुल्लू में 124, मंडी में 1 हजार 142, शिमला में 598, सिरमौर में 158, सोलन में 410 और  ऊना में 80 जगह पर बिजली सेवा बाधित है. हिमाचल में 24 जून से लेकर अब तक 348 लोग अपनी जान गवा चुके हैं. इसके अलावा अलग-अलग घटनाओं में 336 लोग घायल भी हुए हैं. प्रदेश में 2 हजार 220 घर पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुके हैं, जबकि 9 हजार 819 घरों को आंशिक नुकसान हुआ है. इसके अलावा 300 दुकान और 4 हजार 695 पशु घर भी तबाह हो चुके हैं. दो महीने में ही हिमाचल प्रदेश में 131 भूस्खलन और 60 फ्लैश फ्लड की घटनाएं दर्ज की गई हैं. प्रदेश में अब तक 8099.97 करोड़ रुपए का नुकसान हो चुका है.

ये भी पढ़ें:- शिमला में भारी बारिश का तांडव! लोगों ने डर के साए में रात भर जागकर काटी रात



Source link