Atiq Ahmed News: माफिया अतीक अहमद के वकील विजय मिश्रा के खिलाफ तीन करोड़ रुपये की रंगदारी मांगने को लेकर दर्ज हुई एफआईआर पर यूपी बार काउंसिल ने नाराजगी जताई है. अतीक के वकील विजय मिश्रा का यूपी बार काउंसिल वकील विजय मिश्रा ने बचाव किया है. यूपी बार काउंसिल का मानना है कि फौरी तौर पर ऐसा लगता है कि विजय मिश्रा को उसके मोबाइल से दूर करने के लिए प्रशासन ने यह एफआईआर दर्ज की है. यूपी बार काउंसिल भी इस मामले में अपनी तरफ से जांच कराएगा. इस जांच में अगर आरोप सही पाए गए तो कोई बात नहीं, लेकिन अगर आरोप गलत पाए जाते हैं और ऐसा लगता है कि विजय मिश्रा को गलत फंसाया गया है. यूपी बार काउंसिल मजबूती से उनकी लड़ाई लड़ेगा. 

मुवक्किल का पक्ष कोर्ट में रखना कतई गलत नहीं

इस मामले में बार काउंसिल के वरिष्ठ सदस्य अमरेंद्र नाथ सिंह का कहना है कि इस बारे में यूपी सरकार और प्रयागराज पुलिस को जानकारी दे दी गई है. बार काउंसिल भी अपने स्तर से इस मामले में जांच कर रहा है. अगर विजय मिश्रा का उत्पीड़न किया गया तो उसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. अपने मुवक्किल का पक्ष कोर्ट में रखना कतई गलत नहीं है, कोई भी आरोपी वकील के माध्यम से ही कोर्ट में अपनी बात रखता है. अपने मामले में पैरोकारी करता है, किसी को भी वकील के माध्यम से कोर्ट के सामने अपनी बात रखने का पूरा अधिकार है.

यूपी बार काउंसिल इस घटना को लेकर बेहद गंभीर

ऐसे में वकील पर दबाव बनाना और उसे फर्जी मुकदमे में फंसाना पूरी तरह गलत है इसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. अमरेंद्र नाथ सिंह के मुताबिक बार काउंसिल इस घटना को लेकर बेहद गंभीर है. अमरेंद्र नाथ सिंह यूपी बार काउंसिल के वरिष्ठ सदस्य हैं और पूर्व में अध्यक्ष भी रह चुके हैं. वह इलाहाबाद हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के भी अध्यक्ष रह चुके हैं.

Lok Sabha Election 2024: यूपी में ‘मिशन 80’ के लिए बीजेपी ने बनाया नया प्लान, मुस्लिम वोट बैंक के लिए बनाई ये खास रणनीति



Source link